Wednesday, June 16, 2010

ऑनर किलिंग : भतीजी की हत्या पर कोई पछतावा नहीं

दिल्ली के स्वरुप नगर इलाके के इंद्रप्रस्थ कालोनी से ऑनर किलिंग का एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। आशा व योगेश को प्यार करने की इतनी बड़ा सजा मिलेगी उन्होंने कभी सोचा भी नहीं होगा। सोमवार को आशा के परिवार वालों ने अपनी बेटी व उसके प्रेमी योगेश की बड़ी ही बेरहमी से मार डाला। उसके बाद उनके शव को घर में ताला लगाकर भाग गए।

दरअसल सूरज सैनी की बेटी आशा (18) व योगेश (20) एक दूसरे से प्यार करते थे। और वे शादी करना चाहते थे। योगेश आशा के घर के पास ही रहता था और वो वैन चालक था। लेकिन योगेश की जाति के कारण आशा के परिवार वाले इस रिशते के लिए तैयार नहीं थे। आशा व योगेश एक दूसरे से न मिल पाएं इसलिए आशा के पिता ने उसे अपने बड़े भाई ओमप्रकाश के घर स्वरूपनगर भेज दिया था।

आरोपी युवती के ताऊ ओमप्रकाश और पिता सूरज को हत्या करने का कोई अफसोस नहीं है। उन्होंने पुलिस के सामने कहा कि उन्होंने जो किया वह ठीक था क्योंकि परिवार की इज्जत का ख्याल किए बिना उनकी बेटी दूसरी जाति के लड़के से प्रेम कर रही थी। उन्होंने कहा कि दूसरे युवक से सगाई हो जाने के बावजूद आशा, योगेश से मिल रही थी। इस कारण उन्होंने दोनों की पीट-पीटकर और करंट लगाकर हत्या कर दी थी। इसका उन्हें कोई पछतावा नहीं है।

इस मामले में अभी भी पुलिस को आशा की मां, ताई व उसके ताऊ के बेटे की तलाश है। उत्तर-पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त एन.एस बुंदेला ने बताया कि सोमवार रात को सूरज सैनी व ओमप्रकाश सैनी को बुराड़ी इलाके से गिरफ्तार कर लिया था। पूछताछ में ओमप्रकाश ने खुलासा किया कि आशा और योगेश का रिश्ता शुरू से ही परिवार के सभी सदस्यों को नपसंद था। इसके कारण ही सोनीपत में रहने वाले एक लड़के से रिश्ता तय कर दिया गया था। इसके बाद भी आशा नहीं मानी और चोरी से योगेश से मिलती रही। मोबाइल से भी वह घंटों बात करती थी।

No comments: